मेरा क्या है?


रसोई भी मेरी, मेहनत भी मेरी, 
समय भी मेरा, जले हाथ भी मेरे, 
पर खाने की पसंद किसी और की |


गीत भी मेरा, आवाज भी मेरी,
बचपन भी मेरा, जवानी भी मेरी,
पर इन गीतों में बात किसी और की |


खून भी मेरा, ताकत भी मेरी,
कोख भी मेरी, दर्द भी मेरा,
पर जन्मे बच्चे का नाम किसी और का |


भूख भी मेरी , प्यास भी मेरी ,
व्रत भी मेरा, रिवाज भी मेरा ,
पर सभी व्रतों – रिवाजों में नाम किसी और का |

दिल भी मेरा, चाहत भी मेरी ,
पर मैं बनी पहचान किसी और की |


शरीर भी मेरा जुबान भी मेरी ,
पर मैं बनी इज्जत किसी और की |


घर के हर ईंट – पत्थरों में, 
खून – कमाई भी मेरी,   
सपने भी मेरे, साथ भी मेरा,
पर मकान पर नाम किसी और का |


माँ – बाप के सुख – दुःख मेरे,
प्यार भी मेरा, लड़ाई भी मेरी, 
पर उनकी अंतिम यात्रा पर, 
कन्धा किसी और का |

प्रार्थना 

Writer of my own stories

We all have several stories to talk about our lives. When you hear the word story, what comes to your mind? Just after listening to my question, many of you may have started thinking about the most exciting stories you have heard or maybe the worst experience that has impacted your life forever. Recently, I was conducting a story-writing session with ‘out of school’ young girls living in urban resettlement colonies of Delhi. I started the session with word mapping activity and asked them what comes to their mind when they hear the word story, their responses opened up a new window for me to delve into the young minds. Many of them talked about childhood memories when they used to have more fun in their lives. At the same time, they also shared their most fearful experiences of their lives, which are etched forever. Most of these girls, even though just being of adolescent age, shared that the memories of their childhood were the most cherished ones, where they were given some kind of freedom from domestic work. But now they are treated as adults who have to manage everything inside the house. Some of the learners also pointed out that stories reminded them about history. When they hear the word story, the history comes alive. 

 Through the initial conversations, when I digged further about the word story, a significant number of learners remembered about their grandparents as they used to narrate stories to them. During the discussion, many of them also linked the word story with friendship. When they think of stories, they remember memorable times spent with friends during childhood. In contrast, some of them also remembered horrifying experiences about their lives and for them stories are more about such experiences. Many of these girls had migrated to Delhi during childhood or after getting married and memories of their villages came alive when they thought of the word story. For these dropout girls, time spent with school friends, including the funniest moments, comes to their mind while thinking of stories. Some of them shared that stories are all about Dil Ki Baat. (Conversations from heart).

While majority of them were talking about their personal experiences, few girls explained that they imagine stories as Raja Rani Ki Baatein (Conversations About King and Queen). A group of young girls who had migrated to Delhi after marriage had very different experiences to talk about. They remembered Ghar Ki Yaadein (Memories of Home) when they listened to the word story because they still do not feel part of this big city. While talking to these girls, I realised that even a simple word like story has so varied meanings for different people.

After the initial rounds of discussion around the word story, we started the process of story-writing with the learners. It was really interesting to know that the majority of them felt like stories are written by great writers. According to them, stories published in the books or magazines are written by very well-read and experienced people who are highly educated. So when I asked them if they would be interested in writing their own stories for the library book, they looked surprised. Many of them started laughing as if a joke was cracked. Few of them, started questioning me for sharing such far-fetched ideas and tried explaining to me that stories are not written by young people, especially those who have never been to schools or who have dropped out early. 

I decided to narrate the story of a woman, who was like any other woman living next door. They were completely engrossed when I narrated the story of Baby Haldar, a domestic helper who turned into a famous writer from West Bengal.  I can still visualise the sparkling eyes and faces of these girls who were listening with utmost attention. Many of them were relating their lives with Baby Haldar, because they could see their own reflection in her story. It was amazing to see the excitement of these young girls when they were informed that Baby Haldar had travelled to different countries to share about her life story across the world.

They were excited when I emphasized that each one of us has our own stories and we can work together to write our stories that can be used in the library of the center.  This way the library will not just have books written by famous writers, but will also include our stories and we will decide what is to be written. After initial encouragement, some of the girls started narrating their own stories and it was documented during the process in their own language and expressions.

It was amazing to observe these girls when they were narrating their stories. After writing each story, all the girls were asked to come up with its title. It was interesting to see how different learners responded to the same story and gave different titles to any one story. It was collectively decided as a group to share the final title of these stories

In this process learners talked about their various experiences. Some of them wanted to talk about some horrifying experiences that were really disturbing. These stories were close to their hearts and they wanted to talk about it with their friends in the story writing session. For some other girls, story-writing was all about sharing some lighter moments with everyone.  Some of these stories were related to the school days.  However, there were a group of young girls in the session, who had come to Delhi after getting married and they wanted to talk about their stories in a different manner. For them, it was not just about friendship or challenging experiences in lives, but it was also about how society perceived them. They actually wanted to narrate what they felt when back in their villages they were discriminated because of being girls. Overall, it was an enriching experience for all of us and it really helped us in understanding each other at another level where it broadened  the understanding of diversity among us, with appreciating people for who they are and recognizing the importance of their life experiences

Thus, this story writing session was not just about writing stories, but it was also  about learning from each other, knowing each other and building a kind of collective learning space for girls. People from different castes, religions, regions and gender identities were able to connect with each other. Despite lots of similarities in their stories, there were differences based on their childhood experiences. These stories reminded me of my own childhood and I reflected back about childhood memories. By the end of the session, even the girls who were earlier hesitant to take part in narrating stories eventually joined in the story writing session and narrated their stories. They recognised the value of their own experiences and showed a keen interest to become a storywriter like Baby Haldar in future.

आनंदीबाई जोशी के पत्र

आनंदीबाई जोशी (31 मार्च, 1865 – 26 फरवरी, 1887) पहली हिंदुस्तानी महिला थीं जिन्होंने अमेरिका में डॉक्टरी की पढ़ाई की। नौ साल की उम्र में उनका विवाह गोपाल राव जोशी से हुआ जो उम्र में उनसे 20 साल बड़े थे और विधुर थे। गोपाल राव महिला शिक्षा के समर्थक थे और प्रगतिशील विचारों से प्रभावित थे। इसके तहत उन्होंने आनंदीबाई को पढ़ने और अंग्रेजी सीखने के लिए प्रोत्साहित किया। नीचे आनंदीबाई जोशी द्वारा अपने पति को लिखे गए पत्रों के कुछ अंश दिए गए हैं। ये उनके रिश्ते पर रोशनी डालते हैं।

“पुरानी यादों को कुरेद कर आपके हृदय को वेदना पहुँचाना या हमारे प्रेम में किसी तरह की दरार पैदा करना मेरा उद्देश्य नहीं है…। यह तय करना बहुत कठिन है कि मेरे प्रति आपका बर्ताव अच्छा था या बुरा। अगर आप मुझसे पूछेंगे तो मैं कहूँगी कि इसमें दोनों बातें थीं। अंतिम उद्देश्य की दृष्टि से आपका बर्ताव सही माना जा सकता है; लेकिन यह भी मानना पड़ेगा कि एक बच्चे के मस्तिष्क पर ऐसे बर्ताव के संभावित प्रभावों के लिहाज से यह बर्ताव गलत था। मुझे 10 साल की छोटी सी उम्र में टूटी हुई छड़ी से पीटना, जब मैं 12 साल की थी उस वक्त मुझ पर कुर्सी और किताबें फेंकना और मुझे छोड़कर चले जाने की धमकी देना तथा जब मैं 14 साल की थी तब इसी तरह की दूसरी अजीबोगरीब सज़ाएँ देना – यह मेरी उस उम्र, मेरे शरीर और मस्तिष्क के लिए बहुत गंभीर चीजें थीं। बचपन में दिमाग अपरिपक्व व शरीर अविकसित होता है। और आप जानते हैं कि मैंने ऐसे मौकों पर किस तरह का बर्ताव किया। अगर उस कच्ची उम्र में मैं आपको छोड़कर चली जाती जिसका आप लगातार संकेत करते रहे तो क्या होता? मैं कहीं गुम हो जाती (और न जाने कितनी ही लड़कियाँ अपनी सास और पतियों के हाथों इसी तरह के उत्पीड़न के कारण अपने घर-बार छोड़कर जाती रही हैं।) मैं ऐसा नहीं कर पाई क्योंकि मैं इस बात से भयभीत थी कि इस तरह का बिना आगा-पीछा सोचे उठाया गया कदम मेरे पिता की इज्जत को मिट्टी में मिला देगा…। और मैं आपके विनती करती रही कि मुझ पर रहम न करो, मुझे मार डालो। हमारे समाज में सदियों से पत्नियों और पतियों के बीच कोई कानूनी पाबंदी नहीं रही है, और अगर कोई है भी तो वह औरतों के खिलाफ ही जाती है! ऐसी सूरत में मेरे पास इसके अलावा कोई और चारा न था कि मैं आपको कुर्सियों से अपने को मारने दूँ और चुपचाप इस सब को बर्दाश्त करती रहूँ। एक हिंदू स्त्री के पास अपने पति के सामने मुँह खोलने या उसको सलाह देने का कोई हक नहीं होता। उसे केवल इस बात का अधिकार होता है कि वह चुपचाप अपने पति को वे सारी चीजें करने दे जो वह करना चाहता है। प्रत्येक हिंदू पति अपनी पत्नी से धैर्य का सबक सीख सकता है जिससे उसका बड़ा भला होगा। (मैं भली-भाँति जानती हूँ कि आपके बिना मैं कभी वो नहीं बन पाती जो आज मैं बनी हूँ और इसके लिए मैं सदा आपकी ऋणी रहूँगी; लेकिन आप इस बात को नकार नहीं सकते कि मैं हमेशा शांत रही।) मैं यही सब बर्दाश्त करने के लिए पैदा हुई थी। लेकिन अब मैं संतुष्ट हूँ।“

… जब मैं पुरुष और स्त्री के संबंधों के विषय पर विचार करती हूँ तो मैं तथाकथित रूढ़िवादी विचारों की तरफ खड़ी दिखाई देती हूँ। जब तक औरत पुरुष के बराबर हैसियत में नहीं आ जाएगी तब तक उसके लिए यही बेहतर है कि वह कुछ खास सामाजिक बंदिशों में रहे, जैसे कि ‘पुनर्विवाह न करना’, ‘पुरुष के अधीन रहना’, ‘अपने पति को परमेश्वर मानना।’ शास्त्रों में यही निर्देश दिए गए हैं। लेकिन जब मैं इस बात पर विचार करती हूँ कि तमाम युगों और कालों में स्त्रिायों को कैसी-कैसी पीड़ाओं का शिकार बनाया गया है तो मैं यह देखने के लिए अधीर हो जाती हूँ कि पश्चिमी प्रकाश कब हमारे जीवन में मुक्ति और कल्याण के पथप्रदर्शक के रूप में अवतरित होगा। यहाँ मैं अपने आप को पूरी तरह अभिव्यक्त कर पाने में अक्षम महसूस करती हूँ। मुझे यह विश्वास दिलाया जाता रहा है कि पुरुष और स्त्री आत्मरक्षक करने वाले हों और अपना गुजारा चलाने व जीवन की अन्य जरूरतों के लिए एक-दूसरे पर निर्भर न रहें। केवल ऐसी स्थिति में ही सारे पारिवारिक तनावों और सामाजिक अपमानों पर विराम लग सकता है। मुझे यह देखकर घोर दुख होता है कि भारत में यूरोपियनों के बीच बहुत सारी स्त्रियों को केवल विवाह के लिए शिक्षित और योग्य बनाया गया है। आह! किसी स्त्री के लिए यह कितनी वाहियात बात है कि वह कुँवारों को लुभाने के लिए घड़ी-घड़ी पोशाकें बदलती रहे और गहनों से सजती रहे।

… हमारे यहाँ बहुविवाह की प्रथा नहीं है…। हमारे लोग अगर एक से ज्यादा पत्नी रखते भी हैं तो इसलिए कि उन्हें अपनी पहली पत्नी या दूसरी पत्नी से कोई बेटा नहीं हो पाया है। यानी आप यह देख सकते हैं कि सामाजिक और धार्मिक रूप से हम बेटों की चाह में कितने लिप्त हैं। स्वर्ग का द्वार सिर्फ ऐसे पुरुष के लिए ही खुला है जिसका कोई बेटा है। औरों के लिए यह रास्ता बंद है।

हमारे पास सभी मौसमों के लिए एक-सी पोशाक होती है। हम कभी गर्म कपड़े नहीं पहनतीं क्योंकि इसे भद्दा माना जाता है और न ही हम कभी जूते या बूट पहनती हैं क्योंकि हमें विरले ही कभी घर की चहारदीवारी से बाहर जाने का मौका मिलता है। कहने का मतलब यह कि सारे ऐश्वर्य सिर्फ मर्दों के लिए हैं। जाड़ा, गर्मी और वसंत, सब उन्हीं को महसूस होता है – औरतों को ये सब महसूस नहीं होता। उनसे उम्मीद की जाती है कि मौसमों में आने वाले इन सारे बदलावों से बेपरवाह रहें। ऐसे में क्या हमें आपसे ईष्र्या न होनी चाहिए?

… हाल में मैं किसी न किसी वजह से बीमार रही हूँ। भारत में उँचे वर्गों की महिलाएँ आमतौर पर काफी दुर्बल होती हैं। मेरे ख़याल में इसके पीछे कम उम्र में विवाह की प्रथा का काफी हाथ है जो पूरे भारत में फैली हुई है, लेकिन क्योंकि आप भी कुछ ऐसी ही शिकायत कर रहे हैं इसलिए मुझे लगता है कि विवाह की व्यवस्था में ही कुछ खोट है।

पंडिता रमाबाई के जीवन पर आधारित निरंतर प्रकाशन ‘भय नाहीं, खेद नाहीं’ से एक अंश

संघर्ष जारी है

समानता…….औरत और आदमी के बीच समानता…… औरत और आदमी के बीच समानता होनी चाहिए ऐसा सभी मानते हैं पर क्या हकीकत में हमारे और आपके परिवारों में ऐसा है। कुछ लोग ये दावा कर सकते हैं कि उनके यहां आदमी और औरत बराबर हैं और शायद हों भी, पर ये कितने परिवारों और महिला पुरूषों के बीच की हकीकत है? अपने काम के दौरान अक्सर जो हकीकत सामने आती है वो यह कि गांव की महिलाओं से जब औरत और आदमी के बीच की समानता के बारे में बात करती हैं तो उन्हें बहुत अजीब लगता है। वो तो पहले से ही यह मानकर बैठी हैं कि आदमी सर्वोपरी हैं और महिलाओं का स्थान उनके बाद आता है। जो ऐसा नहीं भी मानतीं, वे ये मानती हैं कि उनके परिवार में पति उनको महत्त्व देते हैं और जहां ज़रूरी हो उनकी बात सुन भी ली जाती है। पर सवाल ये है कि जहां ज़रूरी हो का क्या मतलब है? क्या यही समानता है?

हाल ही के एक प्रशिक्षण में महिलाओं और पुरूषों के द्वारा किए जाने वाले काम और विभिन्न संसाधनों पर किसका हक होता है, इनपर चर्चा के द्वारा हम समानता की बात करने का प्रयास कर रही थीं। बात की शुरूआत हुई कहानी सुनाने से।

इस कहानी में सोहन अपनी पत्नी रामप्यारी को रोज़ाना ये ताना देता है कि घर का थोड़ा सा काम करके खाना बनाकर खेत लाने में वह देर कर देती है। जब रामप्यारी कहती है कि घर के काम बहुत हैं तो सोहन दावा करता है कि वह रामप्यारी की तुलना में कम समय में घर का काम पूरा करके दिखा सकता है। फिर क्या अगले दिन रामप्यारी तो जाती है खेत और सोहन अपने दावे को सच करने में जुट जाता है… मगर घर का काम इतना अधिक होता है कि उससे संभल नहीं पाता। हडबडाहट में किसी तरह खाना लेकर खेत पर पहुंचता है, मगर जल्दी में धोती पहनना ही भूल जाता है।

इस कहानी से शुरूआत हुई महिलाओं और पुरूषों के काम पर चर्चा की और उनके द्वारा किए जाने वाले कामों की सूची बनाने की। जब हम महिलाओं और पुरूषों के द्वारा किए जाने वाले कामों की सूची बना रही थीं तो प्रतिभागियों को ये देख हैरानी हुयी कि आदमियों के कामों की सूची में उनका सुबह उठकर हग कर आना और शाम में काम से आकर आराम करना भी दर्ज हो गया। वहीं दूसरी ओर इसके विपरीत दिखाई दिया कि महिलाओं को दिनभर में घर-खेत के कामों के बीच आराम करने का समय ही बहुत कम मिलता है। मगर इसके बावजूद वे अपने काम को आदमियों से हर तरह से कम मानती हैं और अक्सर उन्हें घर पर बैठने का और कुछ न करने का ताना झेलना पड़ता है।

इसके साथ ही चर्चा हुई संसाधनो पर हक की। चर्चा में पहले तो प्रतिभागियों ने कहा कि उनके घर पर उनका हक है पर जब उदाहरण देकर उनसे पूछा गया कि मान लें कि उन्होंने पति की मर्ज़ी के खिलाफ नौकरी करने का फैसला लिया होता तो उन्हें सबसे पहले क्या सुनने को मिला होता? सभी प्रतिभागियों से एकमत निकलकर आया कि उन्हें उसी घर से निकल जाने का फरमान जारी हो जाता। तो फिर वह घर उनका कैसे हुआ? चर्चा को और आगे बढ़ाते हुए जब उनसे पूछा कि उनकी नौकरी से मिले वेतन पर हक किसका होगा तो दस में से सात प्रतिभागियों का कहना था कि  उस पैसे पर उन्हीं का हक होगा। वे उस पैसे को अपनी मर्ज़ी से खर्च कर सकती हैं। मगर फिर निकल कर आया कि इस मर्ज़ी में पति या घर के मुखिया पुरूष की सहमति होना आवश्यक है। इस चर्चा के दौरान मुझे झारखंड़ में काम करने वाली टीचर के साथ हुई एक घटना याद आ गई।

दरअसल झारखण्ड में प्रौढ़ केन्द्र पर पढ़ाने वाली इस टीचर ने अपने पति से कहा कि उसने अपनी नौकरी से जो पैसे इकट्ठे किए हैं उनसे वह स्कूटी खरीदना चाहती है। इससे उसे सेन्टर जाने में सहुलियत होगी। पति ने मना किया पर वह ज़िद करने लगी। इसपर पति ने उसे बहुत मारा। बावजूद इसके उसने स्कूटी खरीद ली। पति को यह बात इतनी नागवार गुज़री कि उसने दोबारा न केवल पत्नी की पिटाई की बल्कि स्कूटी भी तोड़ दी। प्रतिभागियों के साथ जब इस घटना को सांझा किया तो संसाधनों पर हक की चर्चा में उन्होंने यह बात कही कि दीदी आप सही कह रही हैं। महिलाओं का हक केवल नाम के लिए ही होता है। सभी संसाधनों पर मालिकाना हक/नियंत्रण तो पुरूषों का ही होता है। हालांकि चर्चा के अन्त में यह भी जुड़ा कि आजकल महिलाओं के नाम पर ज़मीन या घर लिखवाया जाता है और वह इसलिए कि ऐसा करने पर रजिस्ट्री में कुछ प्रतिशत की छूट मिलती है, पर इससे भी उस ज़मीन या घर को बेचने का फैसला महिला नहीं कर सकती है, क्योंकि असल नियंत्रण तो पुरूष का ही होता है।

जब शाम में चर्चा में शामिल एक प्रतिभागी ने अपने पति को सत्रों के दौरान हुई चर्चा के बारे में बताया तो सुनते ही पति ने कहा – ‘ये दीदी क्या घर तुड़वाने आई हैं?’ यह सुनना मेरे लिए नया नहीं था। इस तरह के प्रशिक्षणों में, जहां पर महिला और पुरूषों के बीच गहरी असमानता पर बात की जाती है, प्रशिक्षक की छवि घर तुडवाने वाले की ही बनाई जाती है। मैं अक्सर ये सवाल करती हूं कि आखिर ऐसा क्यों? क्यों समानता की बात करना घर तोड़ने जैसा लगता है? जब तक औरत चुप है तब तक घर परिवार बना हुआ है। क्या इसलिए कि औरत को बराबरी और अपने हक की बात करनी ही नहीं चाहिए। यदि औरत अपने हक को समझेगी और बराबरी की बात करेगी तो पुरूष को ये नागवार गुज़रेगा और यदि वह नहीं मानेगी तो दोनो साथ न रह पाएंगे। तो क्या आंखें मूंद कर चुपचाप रहना और ऊपर से ये चोला ओढ़ लेना कि घर में बराबरी है, सब ठीक है, सही है?

एक बात और जो इस तरह की चर्चाओं में होती है वह यह कि अक्सर प्रतिभागी प्रशिक्षक को एक रोल मॉडल के रूप में देखने लगती हैं और उसके निजी जीवन में झांकने की कोशिश करती हैं। वे ये जानना चाहती हैं कि जो इतनी बराबरी की बात कर रही हैं, वे अपने घर में कितनी बराबरी से जीती हैं? इसलिए अधिकतर ये सवाल किये जाते हैं कि क्या आपकी शादी हो गई है? आपके पति आपके साथ ही रहते हैं? ऐसे में मुझे लगता है कि प्रतिभागियों से यह सांझा करना बहुत ज़रूरी है कि प्रशिक्षकों की जिंदगी भी इतनी सुलझी और साफ-सुथरी नहीं है। हम सभी अपने-अपने स्तर पर संघर्ष कर रही हैं। ज़रूरत है तो इस गैर बराबरी को पहचानने की और जब भी जहां भी मौका मिले इसपर चोट करने की, आवाज़ उठाने की।

समन्दर पार

पंडिता रमाबाई (1858-1922) का पूरा जीवन एक अनथक यात्रा है। जब वे छह महीने की थीं तभी उनके पिता सपरिवार तीर्थयात्रा पर निकल पड़े थे। पुराण बाँचते हुए पूरे परिवार ने भारत भ्रमण किया। उसी बीच उनकी पारंपरिक शिक्षा-दीक्षा हुई। यात्रा के दौरान अकाल में उनके माता-पिता की मृत्यु हो गई। आगे उन्होंने इंग्लैंड जाना तय किया जिसको लेकर लोगों में हलचल मच गई थी। उस समय समुद्र यात्रा को पाप माना जाता था। और उसमें भी स्त्री का अकेले जाना किसी के गले नहीं उतर रहा था। रमाबाई ने यह पत्र महाराष्ट्र के अपने मित्र सदाशिव पाडुरंग केलकर के नाम लिखा था। उन्होंने मराठी भाषा में इसे किताब की शक्ल में छपवा दिया। इंग्लैंड यात्रा के बारे में लिखी गई यह किताब बिकेगी, ऐसी उम्मीद थी। छपाई का खर्च निकल जाने के बाद बिक्री के पैसे रमाबाई की पढ़ाई के खर्चे के काम आएँगे, यह भी इरादा था।
सेंट मेरीज़ होम, इंग्लैंड
प्रिय भाई,
कल दोपहर में आपका पत्र मिला। उसे पढ़ते समय मेरे मन की हालत क्या थी, इसे बता नहीं सकती। अपने लोगों को छोड़कर दूर चले जाने वाला आदमी ही यह समझ सकता है कि मैं क्या महसूस करती हूँ। आप इसे दूसरे अर्थ में नहीं लीजिएगा, मगर यहाँ पर आना मेरी खुशकिस्मती है। अभी तक मैंने बहुत परेशानियाँ झेली हैं और उसके बाद यहाँ का जीवन वाकई सुखमय लगता है। ईश्वर ने यह अच्छा मौका मुझे दिया है।
मनुष्य का जीवन एक नाटक है। हम रंगमंच पर जो देखते हैं, वह मिथ्या है। हकीकत में हमारा जीवन ही नाटक है। लगभग एक साल पहले मैंने आपको बताया था कि मैं यूरोप जाना चाहती हूँ। मेरा इरादा है कि वहाँ जाकर मैं मेडिकल की पढ़ाई करूँ। 20 अप्रैल, 1883 की शाम बंबई से हम ‘एस.एस. बुखारा’ नामक पानी के जहाज़ से इंग्लैंड के लिए रवाना हुए। आप सबने यह यात्रा करने से मना किया था। और मैं अपने दोस्तों से ऊपर नहीं हूँ, लेकिन मुझे लगा कि मुझे जाना चाहिए। मैं इंग्लैंड गई ताकि अपने आपको जीवन और आगे के काम के लिए तैयार कर सकूँ। मेरा फैसला सही है और मैंने वही किया जो करना चाहिए था।
जहाज़ में मेरा केबिन बहुत सँकरा था। छः सीट थी, पर हम तीन ही थे – मैं, मेरी बेटी मनोरमा और मेरी दोस्त आनंदीबाई भगत। हमारे साथ कोई विदेशी नहीं रहना चाहता था, इसलिए हमें सुविधा ही हुई। सत्ताइस दिन का पूरा सफर था। उसमें हम लगभग आधा पेट खाकर रहे या कहिए  आधा भूखे। कारण यह था कि जहाज़ पर जो खाना मिलता था, वह खाया नहीं जा रहा था। फिर भी मैंने ईश्वर को धन्यवाद दिया। उसकी कृपा से कम से कम समुद्र के बीचोबीच खाना तो मिल रहा था।
मुझे शुरू से मुश्किल का सामना करने का अभ्यास है। इसलिए दूसरों की तुलना में कम दिक्कत हुई। पहले भी अपने पिता के साथ जहाज़ की यात्रा कर चुकी थी। अपनी माँ-बहन-भाई सबके साथ जहाज़ से मंगलोर से बंबई और बंबई से द्वारका गई थी। इंग्लैंड की इस यात्रा में एडेन देश होते हुए 1 मई, 1883 को हम स्वेज़ बंदरगाह पहुँचे। वहाँ हमने जहाज़ बदला और कलकत्ता से आ रहे दूसरे जहाज़ पर सवार हुए। इस जहाज़ का नाम था ‘एस.एस. केसरी-ए-हिन्द’। यह स्टीमर हालाँकि ज़्यादा बड़ा था, पर भीड़ भी उतनी ही थी।
चार दिन बाद हम जिब्राल्टर देश पहुँचे। उसके बाद समुद्र ने भयानक रूप धारण कर लिया। हमारा स्टीमर बहुत झटके खा रहा था। इतना कि हम केबिन के एक छोर से दूसरे छोर तक एक दूसरे पर लुढ़के जा रहे थे। सारे मुसाफिरों की हालत खराब थी। यदि हम खड़े होने की कोशिश करते तो दीवार से सिर जा टकराता था। 16 मई को लंदन के पास के एक बंदरगाह पर स्टीमर ने लंगर डाला। बंदरगाह पर सेंट मेरीज होम (ईसाई नन की संस्था) से दो सिस्टर मुझसे मिलने आईं। उन्होंने मेरा प्रेम पूर्वक स्वागत किया। उनमें से एक सिस्टर का परिचय मुझ से पूना शहर के सेंट मेरीज़ होम में हुआ था। उनके साथ एक और सज्जन थे, जो बाद में चले गए। सिस्टर के साथ मैं सेंट मेरीज़ होम  पहुँची, जहाँ अच्छे से स्वागत हुआ।
फिलहाल यहाँ आकर मैंने अपनी पढ़ाई शुरू कर दी है। नई दिनचर्या में रम गई हूँ। काफी कुछ पढ़ना और जानना-समझना है। भारत में क्या चल रहा है, इसकी खोज-खबर भी रखती हूँ। अभी यहाँ बाहर घूम-फिरकर नहीं देखा है। आपको फिर लिखूँगी, जब कुछ जान समझ लूँगी।
आपकी रमा
(निरंतर की पत्रिका ‘आपका पिटारा’ के 98वे अंक ‘दुनिया की सैर में प्रकाशित)
blog