सावित्रीबाई फुले: ज़माने को बदला अपने विचारों से

important-days

हम अंदाज़ा लगा ही सकते हैं कि जब दलितों का आज भी इतना शोषण होता है तो आज से 150 साल पहले क्या हाल रहा होगा। ऐसे में ज्योतिबा और सावित्रीबाई फुले ने इनके हकों की बात उठाई। पति-पत्नी की इस जोड़ी ने मांगा और महार जातियों के बीच काम किया। महाराष्ट्र में ये जातियां सबसे निचली मानी जाती थीं। उन्होंनें इन जातियों में भी सबसे दबे हुए वर्ग की लड़कियों और औरतों के साथ काम किया।

Continue reading

उन्नीसवीं सदी का महाराष्ट्र और सावित्रीबाई फुले

संपादक की ओर से: आज के महाराष्ट्र में महिलाओं की स्थिति और उन्नीसवीं सदी की महिलाओं की स्थिति में बहुत अंतर है और इस अंतर के लिए, आज के महाराष्ट्र के लिए, और महिलाओं की आज की बेहतर स्थिति के लिए सावित्रीबाई फुले जैसे सामाजिक कार्यकर्ताओं का योगदान अतुलनीय है। सावित्रीबाई फुले के जन्मदिवस (3 जनवरी) के अवसर पर उनके योगदान को याद करते हुए लेखक ने उन्नीसवीं सदी के महाराष्ट्र और उसकी महिलाओं की स्थिति पर प्रकाश डाला है।

first-lady-teacher-of-india

हम 21वीं शताब्दी में जी रहे हैं, आज भी हमारे यहाँ कन्या भ्रूण हत्या होती है, लड़कियों की पढ़ाई पर रोक लगा दी जाती है और बहुत से लोग लड़कियों को सिर्फ़ इस लिए पढ़ाते हैं कि पढ़ा-लिखा लड़का मिल जाएगा, लड़की घर को आर्थिक रूप से संभालने में सक्षम हो जाएगी और बच्चों को पढ़ा लेगी। हालांकि ये भी मानना होगा कि धीरे-धीरे भारतीय समाज में काफ़ी बदलाव आये हैं परन्तु आज भी समाज में महिलाओं की स्थिति दोयम दर्जे पर है। आज ये हालात हैं तो हम 186 साल पहले के समाज की कल्पना कर ही सकते हैं, जब सावित्री बाई फुले का जन्म हुआ था।

Continue reading

Image

Celebrating 125th Ambedkar Jayanti With #AmbedkarAnswers

Today is the 125th birth anniversary of Dr. Bheem Rao Ambedkar, marked across country as Ambedkar Jayanti. While the entire country has seen a number of socio-political issues rise up in past few months, various ideologies – rigid and evolved, have come to the surface of discourses everywhere. On this occasion, Nirantar- Center for Gender and Education decided to honour Babasaheb and his legacy in which we have found so many answers and forgotten words of wisdom. Looking back through some of his books and essays, we were able to locate the current problems of religion, caste system, nationalism, equal rights, and so much more, being addressed in his words.

Continue reading

Janishala learner profile: Ram Kunwar

Born into a poor dalit family, Ram Kunwar and her sister live with their father in Sukul Guwan. Her mother passed away when she was only 2. Although she was married off at the age of 10, Ram Kunwar continued to live at her natal home away from her husband because he was mentally disturbed. Here, she had to take on the housework and care of her ill father. Continue reading