ललितपुर का मेरा पहला अनुभव

किसी भी चीज़ का पहला अनुभव हमेशा ख़ास होता है। मेरे लिए सहजनी शिक्षा केंद्र (एस. एस. के.), ललितपुर के नए सेंटरों के उद्घाटन का अनुभव भी कुछ ऐसा ही था। मैं डरी-सहमी ललितपुर पहुंची। डरी-सहमी इसलिए क्योंकि निरंतर से यह मेरा पहला फील्ड विजिट था। मुझे वहाँ लोग पसंद करेंगे या नहीं? क्या मैं वहाँ की बोली समझ पाऊँगी? ऐसे कई सवाल मेरे मन में दौड़ लगा रहे थे। मैं तो ललितपुर पहुँचने से एक घंटे पहले ही ट्रेन में उठ बैठी थी।

Continue reading

Image

Janishala Newly-Literate Writings

janishala0002janishala0003Janishala neo-literate writing

ये सभी चिठ्ठी जनिशाला की महिलाओं ने लिखा है। इस चिठ्ठी में इन्होंने ने दिल्ली भ्रमण का अनुभव लिखा है।

Continue reading

PrabhaDevi — a Janishala Profile

Image

Coming from Newari village in Bundelkhand region of UP, surviving violence in her marriage with two daughters to her responsibility, Prabha now resides with them at her parents’ home. A sharp learner at Janishala, an ex-reporter in a local language newspaper – Khabar Lahariya; she expresses what literacy meant in her life.

Continue reading