‘कलामे निस्वां’: मुस्लिम औरतों की सुलगती आवाजें

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर आपके सामने पेश है निरंतर प्रकाशन कलामे निस्वां से एक लेख. इस प्रकाशन में हैं उर्दू में लिखी मुसलमान औरतों की आवाजें, जिनका वैसे के वैसे हिन्दी में लिप्यन्तरण कर दिया गया है. ये आवाजें करीब सौ साल पुरानी हैं. ये मुसलमान औरतें अपनी दुनियाँ देख रही हैं, मज़े ले रही हैं उसकी नुकताचीनी भी कर रही हैं. इनमे हिचकिचाहट भी है तो कहीं वे बेख़ौफ़ भी नज़र आती हैं. ये खुदमुख्तार औरतें है जो कई बार अपने नाम से नहीं लिख पाती हैं. मगर फिर भी वे लिखती हैं, बोलती हैं.

Continue reading

Kalam-e-Niswan — Anthology of Muslim Women’s writings

Image
To develop a deeper understanding of Muslim women’s education, we explored its history. The Jamia Milia Library in Delhi and the Khuda Baksh Library in Patna were scoured for women’s journals and magazines, and we came across important writing by Muslim women. From politics to education, they have covered a range of issues with their pens. We have compiled some of these writings from various Urdu publications in the form of a book, titled Kalam-e-Niswan. The pieces have not been translated from Urdu to Hindi, but transliterated, keeping the flavour of the writing intact. Meanings of difficult and unfamiliar words have been provided so the text is accessible for readers.

Continue reading