Status

National Consultation: A Critical Examination of Sexuality Discourses in India, 16th and 17th June 2016

Nirantar is organising a National Consultation to critically Examine the current Sexuality Discourses in India on 16th and 17th June, 2016 at Indian Habitat Center, New Delhi.
In 2013-2014, Nirantar tried to ‘map’ contemporary conversations around sexuality among activists and development practitioners. We wanted to get a broad sense of the diverse ways in which we speak of and understand sexuality and where we locate it in our work and politics, amidst complexities in and around us.

Continue reading

You’re a Woman? Why?

Nearly a month after the first  Yuva, Yaunikta aur Adhikar Course and we are still riding the wave of excitement and stimulation. The hang-over, endless questions, with the struggle to find an answer, and the itch to write about it, is an over-whelming feeling. The first session in the course was on Gender. The common understanding with which we started the session was that the word gender and woman are not synonyms to each other, that it is a social construct which is maintaining the power relations and patriarchy at a structural level. Additionally, it was made clear that gender is a structure with its own set of norms that  if broken are met with punishments and if followed are met with rewards of respect and social standing.

Continue reading

Image

यौनिकता और हम

दंड संहिता:

इस चित्र में आप देखेंगे की यौनिक कायदे तोड़ने वालों को किन मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. चित्र में दिए गए गोलों में हैं, यौनिक कायदे तोड़ने वाले लोग और उनसे जुड़े चौकोर आकारों में है, कायदों को तोड़ने पर उनके साथ होने वाले भेदभाव और अन्याय I

यौनिकता और हम- भाग १ का अंश
निरंतर

अदायगी (परफार्मेटिविटी)

अदायगी (परफार्मेटिविटी) एक बहुत शक्तिशाली विचार है जिसका दर्शनशास्त्र, भाषा और समाज विज्ञान में काफी इस्तेमाल किया गया है। इस अवधारणा में इंसानों को ऐसे पात्रों के रूप में देखा जाता है जो कुछ ऐसी खास क्रियाएँ करते हैं जिनसे उनकी पहचान गढ़ी जाती है। मर्द या औरत के रूप में, समलैंगिक या विषमलैंगिक के रूप में, ब्राह्मण या अछूत आदि के रूप में की जानीवाली इन क्रियाओं में सामाजिक कायदे-कानूनों या आदतों पर आधारित उनके रोज़मर्रा के व्यवहार भी शामिल होते हैं।

Continue reading